FasTag क्या है? | क्यों जरूरी है, कैसे काम करता है?

आप कहीं बार सड़क पर परिवहन करते हैं। तभी आपने सड़क पर कई बार देखा होगा फास्टैग लिखा हुआ। तभी आपके मन में एक सवाल जरूर आता होगा कि आखिरकार फास्टैग क्या है?, Fastag कैसे काम करता है? और फास्टैग लगाना क्यों जरूरी है? अगर आप गाड़ी के मालिक है तो आपके लिए फास्टैग बहुत जरूरी हो जाता है।

हम इस लेख में फास्टैग की विस्तृत से चर्चा करेंगे और आपको फास्टैग से होने वाले फायदे एवं नुकसान को समझाने की कोशिश करेगे। आपको बताएंगे कि फास्टैग कैसे काम करता है और कौन से वाहन पर फास्टैग लगाना बहुत जरूरी है।

FasTag क्या है? | FasTag in Hindi

FasTag एक ऐसी तकनीक है जो 2014 में राष्ट्रीय हाईवेज अथॉरिटी ऑफ इंडिया द्वारा तैयार की गई है जो रेडियो-आवृत्ति पहचान(RFID)पर काम करती है जिसे इेक्ट्रॉनिक टोल कलेक्शन(ETC) भी कहते हैं।

Rfid in fastag
Source:https://blog.ttelectronics.com/rfid-technology

सबसे पहले आपको इसमें अपना अकाउंट खुलवाना होता है, उसके बाद आपको उसमें पैसे डालने होते हैं। आप कम से कम ₹100 और ज्यादा से ज्यादा ₹100000 तक पैसे डाल सकते हैं। उसके बाद आपको एक कार्ड दिया जाएगा वह कार्ड आपको अपनी गाड़ी के विंडस्क्रीन में लगाना होता है, लगाने के बाद जब भी आप टोल नाके से निकलेंगे तो आपको गाड़ी रोकने की जरूरत नहीं है। वह पैसे (टोल) अपने आप आपके अकाउंट में से या आपके फास्टैग के वॉलेट से कट जाएंगे।

फास्टैग कार्य कैसे करता है? | हाउ तो वर्क फास्टैग

आपके फास्टैग में एक चिप(cheap) लगी होती है जो रेडियो फ्रिक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन (RFID) पर काम करती है। जब भी आपकी गाड़ी टोल प्लाजा के पास जाती है तो टोल प्लाजा पर लगे हुए सेंसर आपस में संपर्क में जाते हैं, इस तरह यह फास्टैग वाली सिस्टम काम करती है।

FasTag kya hai | fastag

जब आपको अपना फास्टैग का कार्ड मिल जाए तो सबसे पहले अपने वाहन में उसे विंडस्क्रीन पर लगाना होता है। उसके बाद जब भी आप अपना वाहन लेकर टोल प्लाजा से गुजरेंगे तो टोल नाके पर लगे सेंसर आपकी गाड़ी में लगा फास्टैग को पढ़ लेते हैं। इस फास्टैग में जो भी है आपका बैंक का खाता लिंक होगा उसमें से वह टोल प्लाजा पर लगने वाला किराया अपने आप कट(debit) हो जाएगा।

जैसे ही टोल प्लाजा का किराया आपके खाते से कटेगा तब आपको उसका SMS प्राप्त हो जाएगा। अगर किसी वजह से आपके खाते में पैसे नहीं है तो आपको उसे रिचार्ज करवाना पड़ेगा।

फास्ट के प्रकार | Type Of FasTag

बाजार में केवल एक ही प्रकार का FASTag उपलब्ध है, कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप इसे कहाँ से खरीदते हैं। ये सभी एक ही सेवा दे रहे हैं। हालाँकि, ऐसे विभिन्न विक्रेता हैं जिनसे आप FASTag खरीद सकते हैं।

वाहनकलरNPCI क्लास
प्राइवेट वाहन/जीप/कारबैंगनीक्लास 4
छोटे कमर्शियल वाहन/ मिनी बसनारंगीक्लास 5
2 Axleहराक्लास 7
3 Axleपीलाक्लास 6
4,5,6 Axle/ tractorगुलाबीक्लास 12
7 Axle से ज्यादानीलाक्लास 15
मशीन/ JCBकालाक्लास 16

फास्टैग कहाँ से मिलेगा?

  1. NHAI FASTag – राजमार्ग अधिकारियों द्वारा राजमार्ग टोल प्लाजा पर प्रदान किया जाता है।
  2. Bank Specific FASTag – बैंकों द्वारा प्रदान किया जाता है।
  3. Paytm FASTag – यहां तक ​​कि पेटीएम का अपना फास्टैग भी है।

FasTag लगाने के फायदे और नुक्सान:

आपको पता है की हर सिक्के के दो पहेलू होते है, इसी तरह Fastag लगाने के फायदे भी है और नुक्सान भी है। हम आपको नीचे विस्तार से समझाने कि कोशिश करेगे।

FasTag के फायदे:

  1. समय की बचत : FasTag लगने के कारण समय की बहुत बचत होती है, क्योंकि आपको अपनी गाड़ी रोकनी नहीं पड़ती। आपको वहां रुक के केस(cash) में पैसा नहीं देना होता है। इसलिए आप निरंतर अपनी गाड़ी को चला सकते है।
  2. तेल की बचत: FasTag ना होने के कारण पहले टोल प्लाजा पर बहुत भीड़ हो जाती थी। इसकी वजह से वहां गाड़ियों की लंबी कतार लग जाती थी। और उस में बहुत ज्यादा तेल की खपत होती थी। अब FasTag के कारण तेल में बहुत ज्यादा बचत होती है।
  3. प्रदूषण नियंत्रण: FasTag से पहले टोल प्लाजा पर बड़ी-बड़ी गाड़ियों के लाइन लगती थी उससे एकदम से बहुत ज्यादा प्रदूषण होता था।
  4. पैसे की बचत: FasTag के आने के कारण पैसों की बहुत ज्यादा बचत होती है। क्योंकि जब आपको लाइन में नहीं लगना पड़ता है तो उससे आप का तेल बचता है और पैसों की भी बचत होती है।
  5. खोज (Track by SMS): जब आप FasTag के टोल प्लाजा पर से निकलते हैं तो उसका s.m.s. आपको मिल जाता है। कभी भी आपकी गाड़ी चोरी होगी और वह टोल प्लाजा से निकलेगी तो आपको वह उसका s.m.s. भी मिल जाएगा।
  6. भ्रष्टाचार(करप्शन) में कमी: फास्टटैग ना होने के कारण पहले टोल टोल का किराया केस में लिया जाता था। उसमें बहुत सारा भ्रष्टाचार होता था परंतु fastag आने के कारण उस पर रोक लग गई है।
  7. लूटपाट नहीं होगी: कई बार आपने देखा होगा कि टोल प्लाजा पर लूटपाट होती है। और लुटेरे टोल प्लाजा को लूट कर चले जाते हैं, उसमें भी रोक लग गई है। कई बार ऐसा भी होता था कि कई सारे लोग टोल का किराया नहीं देते थे वह भी समस्या हल हो गई।
  8. कैशबैक: कहीं बार आप टोल प्लाजा से निकलते हैं तो उसका कैशबैक भी आपको मिलता है। जो आपके बैंक अकाउंट में वापस जमा कर दिया जाता है।

FasTag के नुक्सान:

  1. तकनीकी समस्या: कहीं बार टोल प्लाजा पर लगे हुए सेंसर में तकनीकी समस्या आ जाती है। उसके कारण Fastag को स्कैन नहीं कर पाता और आपका समय बर्बाद होता है। कहीं बार देखा गया है कि आपका गाड़ी में लगा FasTag भी कुछ समय बाद काम करना बंद कर देता है।
  2. दोगुना किराया(double charge): अगर आपकी गाड़ी में फास्टैग नहीं लगा हुआ है, और आप फास्टैग वाली लाइन में घुस जाते हैं तो आपको दुगना किराया देना पड़ सकता है। अगर आप का रिचार्ज खत्म हो गया है तो भी आप को दुगना किराया देना पड़ सकता है।
  3. क्लोनिंग : कहीं बार देखा गया है कि क्लोनिंग की समस्या भी फास्टैग में होती है कोई दूसरा इंसान आपकी ही जैसा फास्टैग बनाकर अपनी गाड़ी में लगा देता है।
  4. गोपनीयता(Privacy): गोपनीयता की समस्या बहुत बड़ी है क्योंकि जहां जहां आप घूमते हैं और जहां जहां से टोल प्लाजा से निकलते हैं तो सरकार आपको ट्रेक कर सकती है। और आप कहां कहां घूम रहे हैं वह भी पता कर सकती है।

फास्टैग कैसे प्राप्त करें?

काफी लोगों को नहीं पता होता है कि फास्टैग कैसे प्राप्त करें और फास्टैग कहाँ से मिलेगा, फास्टैग प्राप्त करने के बहुत सारे मार्ग है जिसे हमने नीचे विस्तार से समझाया है।

  • अगर आप नया वाहन लेने का सोच रहे हैं तो आप वहां शोरूम में डीलर को बोलकर फास्टैग के लिए आवेदन कर सकते हैं।
  • अगर आपका वाहन पुराना है, और इससे पहले आपने फास्टैग में अपना अकाउंट चालू नहीं करवाया है तो आप किसी भी बैंक में जाकर उसके लिए आवेदन कर सकते हैं।
  • भारत में 27 बैंकों में फास्टैग की सुविधा उपलब्ध है जिसमें पेटीएम पेमेंट बैंक का भी समावेश होता है।
  • अगर आप चाहे तो फास्टटैग टोल प्लाजा से भी प्राप्त कर सकते हैं। जो नेशनल हाइवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया के द्वारा प्रदान किया जाता है जिसका चार्ज ₹100 रखा गया है।

फास्टैग प्राप्त करने के लिए जरूरी कागज(Documents)

1वाहन के पंजीकरण प्रमाण पत्र (RC)
2वाहन मालिक के पासपोर्ट तस्वीर
3वाहन मालिक के घर का पता दर्शाने वाले कोई भी प्रमाण पत्र जिसमें आधार कार्ड, पैन कार्ड का समावेश हो सकता है।

फास्टैग में बैलेंस चेक कैसे करें?

फास्टैग में बैलेंस चेक करना बहुत आसान है अगर आपने फास्टैग लेते समय आपने आपका मोबाइल नंबर एनएचएआई के पास रजिस्टर करवाएं है तो 91-8884333331 नंबर पर मिस कॉल देकर आप अपने फास्टैग का बैलेंस चेक कर सकते हैं।

क्या फास्टैग लगाना सभी के लिए जरूरी है?

जी हां दिसंबर 2019 के बाद गवर्नमेंट ने फास्टैग लगाना जरूरी कर दिया है और इसके बगैर आप नेशनल हाईवे पर परिवहन करेंगे तो आपसे दुगना किराया वसूल किया जा सकता है।

मैं अपना FASTag कैसे बदल सकता हूं?

FASTag को बदलने के लिए कृपया अपने बैंक की वेबसाइट या NETC ग्राहक सेवा डेस्क पर जाएँ।

यदि FASTag क्षतिग्रस्त हो जाए तो क्या होगा?

यदि FASTag क्षतिग्रस्त हो जाता है, तो आपको एक उपयोगकर्ता के रूप में अपने बैंक से संपर्क करना चाहिए और उन्हें नया fastag के लिए अनुरोध करना चाहिए।

यदि आपने आपकी कार बेच दी है तो क्या करें?

यदि आपने आपकी कार बेच दी है तो आपके बैंक अकाउंट में जाकर आपको आपका भैया फास्टैग का अकाउंट बंद करवाना होगा।

Conclusion:

मुझे उम्मीद है कि आप समझ गए होंगे कि फास्टैग क्या है कैसे काम करता है और कौन सी टेक्नोलॉजी पर काम करता है। फास्टैग आपके वाहन के लिए बहुत जरूरी है और फास्टैग से बहुत सारे फायदे होते हैं। अगर आप नई गाड़ी लेने का सोच रहे हैं तो डीलर से बात करके आप वही फास्टैग लगा लगा सकते हैं। जिससे आने वाले समय में आपको बहुत ज्यादा फायदा मिलेगा और दिसंबर 2019 के बाद सरकार ने फास्टैग लगाना अनिवार्य कर दिया है।

अन्य पढ़ें –

Default image

2 Comments

  1. You have given very good information in this article.
    Which I have liked very much. your blog is trusted.
    I have a blog komaliy.blogspot.com which gives correct information about stock market and mutual fund investment.
    Please gives a backlink on your website.

Leave a Reply