आज हम एक रोमांचक विषय पर बात करने वाले है। अगर आपको नहीं पता है की दुनिया के सात(7) अजूबे कोन से है तो यह लेख आपके लिए है। आपको को जानकर ख़ुशी होगी की इन सात अजूबों में एक अजूबा भारत का भी है।

विश्व के आश्चर्य(अजूबे) अद्भुत है, इसे में मानव-निर्मित ओर प्राकृतिक दोनों का समावेश होता है। प्राचीन काल के अजूबे अलग थे, परंतु समय के साथ वो नस्त होते गए और वर्तमान में नए सात अजूबे बने।

दुनिया के सात नए अजूबे चयन करने की प्रक्रिया।

आपके मन में भी ये सवाल आता होगा की, ये सात अजूबों का चयन किसने किया और कैसे होता है? तो आपको हम बता दे की ये प्राचीन काल से चलता आ रहा है आज से लगभग २२०० साल पहले हेरोडोटस और कैलिमाचस ने सूची बनाई थी। परंतु वर्तमान समय में उनके चुने गए अजूबे नष्ट हो गए।

इसके बाद स्विट्ज़रलैंड ने साल 2000 में सात नए अजूबे चुने की प्रक्रिया शुरू की और इसके लिए एक फाउंडेशन बनाया गया जिसका नाम “New Seven Wonders of the World” रखा। इस फाउंडेशन ने एक वेबसाईट बनाई ओर उसमें विश्व के करीब 200 धरोहरों की एक सूची बनाई गयी।

उसके बाद इन्टरनेट और मोबाइल के द्वारा चुनाव(Voting) को शुरू किया गया। इस पोल में करीब 10 करोड़ लोगो ने इन्टरनेट और फोन के जरिये वोट किया था। और साल 2007 में इसका रिजल्ट आया जिन्हें विश्व के लोगों ने वोटिंग के जरिये चुना था।

दुनिया के सात अजूबे और उनके नाम

क्रमअजूबा का नामस्थान
1चीन की दीवारचीन
2ताजमहलभारत
3पेट्राजोर्डन
4क्राइस्ट रिडीमरब्राजील
5माचू पिच्चुपेरू
6कोलोज़ीयमइटली
7चिचेन इत्जामैक्सिको

1 चीन की दीवार

दुनिया की सबसे बड़ी दीवार जिसको
Great Wall of China कहा जाता है और इस महान दीवार की लंबाई लगभग 6300 किमी है। यदि दीवार के सभी अलग-अलग खंडों से लंबाई को मापा जाए तो लगभग 21,196 किमी होती है।

इस दीवार को बनाने में कई शताब्दीया चली गई, एसा हम इसलिए बोल रहे है क्योंकि इसका निर्माण 7वी शताब्दी से लेकर 16वी शताब्दी तक चला था। इस दीवार को बनाने का मुख्य उदेश्य यह था कि बाहरी हमलावरों से रक्षा कर सके।

आपको जान कर आश्चर्य होगा की हर साल यहाँ लगभग 1 करोड़ पर्यटक घूमने आते है। यह महान दीवार लगभग 2000 वर्ष पुरानी है।

  • लंबाई: 21,196 किलोमीटर
  • समय: सुबह 7.30 बजे से शाम 5.30 बजे तक
  • जाने का सबसे अच्छा समय: सितंबर से अक्टूबर
  • स्थान: हुआरौ, बीजिंग, चीन

2 ताजमहल

ताजमहल के बारे में तो आपने कही बार सुना होगा। ताजमहल अपनी सुंदरता के कारण लोकप्रिय है। अगर बात करे इसके निर्माण की तो ताजमहल का निर्माणकार्य २१ वर्षों तक चला था।

ताजमहल भारत के आगरा शहेर में स्थित है। ये महल एक प्यार की निसानी है क्योंकि मुग़ल बादशाह शाहजहाँ ने अपनी पत्नी मुमताज के लिए बनाया था। आपको जान कर हेरनी होगी की इसका नाम सबसे पहले मुमताजमहल हुआ करता था।

16वीं शताब्दी में निर्मित, ताजमहल भारत का ताज है जो विशुद्ध रूप से हाथीदांत-सफेद संगमरमर से बना है और सूर्योदय के दौरान सबसे अच्छा दिखता है।

  • ऊंचाई: 73 मीटर
  • समय: सुबह 8 से शाम 5 बजे तक; पूर्णिमा के दौरान: रात 8.30 बजे से 12.30 बजे तक
  • जाने का सबसे अच्छा समय: नवंबर से मार्च
  • स्थान: आगरा, उत्तर प्रदेश

3 पेट्रा

जॉर्डन के दक्षिण-पश्चिमी रेगिस्तान में स्थित, पेट्रा विश्व प्रसिद्ध पुरातात्विक स्थल है जो कभी नाबातियन साम्राज्य की राजधानी हुआ करती थी। इसमें कब्रों और मंदिरों को तराशा गया है, जो दुनिया भर में लाखों यात्रियों को आकर्षित करता है।

साथ ही जॉर्डन का सबसे अधिक देखा जाने वाला पर्यटक स्थल है। 2019 में ११ लाख पर्यटक इसे देखने आए थे।

जाने का सबसे अच्छा समय: मार्च से मई
स्थान: जॉर्डन


4 क्राइस्ट रिडीमर

तिजुका फॉरेस्ट नेशनल पार्क में कोरकोवाडो पर्वत के ऊपर स्थित, क्राइस्ट द रिडीमर की अद्भुत और सुंदर प्रतिमा 700 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है।

1922 से 1931 से अवधि समय की मेहनत के बाद निर्मित, प्रतिमा केवल ईसाई समुदाय का प्रतीक नहीं, परंतु ब्राजील और रियो के प्रतिष्ठित स्थलों में से एक है।

लोगों से धन दान के माध्यम से निर्मित, 130 फुट की कंक्रीट और सोपस्टोन की मूर्ति को हेटर दा सिल्वा कोस्टा द्वारा डिजाइन किया गया था।

  • ऊंचाई: 38 मीटर
  • समय: सुबह 8 से शाम 7 बजे तक
  • जाने का सबसे अच्छा समय: दिसंबर से मार्च
  • स्थान: पार्के नैशनल दा तिजुका – रियो डी जनेरियो, ब्राजील

5 माचू पिच्चु

माचू पिच्चु का इतिहास बहोत रोचक है। दुनिया के सबसे क्लासिक 7 अजूबों में से एक है, जो अपनी सूखी पत्थर की दीवारों के लिए प्रसिद्ध है। 2400 मीटर की ऊंचाई पर स्थित ये अद्भुत नजारा, सैकड़ों साल पहले एक पहाड़ के किनारे उन्होंने इन संरचनाओं का निर्माण कैसे किया ये कोई नहीं जानता।

मान्यता है की, माचू पिच्चू का निर्माण राजा पचाकुती ने करवाया था।धीरे-धीरे यह सभ्यता नष्ट हो गई थी, लेकिन 1911 में अमेरिका के इतिहासकार हीरम बिंघम ने इसकी खोज की। 1983 में यूनेस्को इसे विश्व की धरोहर घोषित किया।

  • ऊंचाई: 7,970 फीट समुद्र तल से ऊपर
  • जाने का सबसे अच्छा समय: अप्रैल से अक्टूबर
  • स्थान: माउंटेन माचू पिच्चू, पेरू

6 कोलोज़ीयम

7 अजूबों में से एक कोलोज़ीयम अद्भुत और प्राचीन संरचनाओं में से एक है। अगर बात करे एसके निर्माण समय की तो इसका निर्माण 70 से 72 ईसा पूर्व में शुरू हुआ था, और 80 ईसा पूर्व तक बन कर तैयार हुआ था।

सम्राट वेस्पासियन के दौरान निर्मित, कोलोसियम फ्लेवियन स्टेडियम के रूप में बहुत प्रसिद्ध है जो आज भी पर्यटक को आकर्षित करता है। यह मात्र लोगो के मनोरंजन उपरांत इसके अंदर खुनी लड़ाईया करवाने के लिए बनाया गया था।

कोलोज़ीयम स्टेडियम का कुछ हिस्सा भूकंप और प्राकृतिक आपदाओं के कारण से नष्ट हो गया है। ऐसा माना जाता है कि इसकी दीवारों के भीतर पांच लाख लोग और करीब दस लाख जानवर मारे गए थे। हर साल ६ लाख से अधिक लोगों पर्यटन स्थल है।

  • ऊंचाई: 48 मीटर
  • समय: सुबह 8.30 बजे से दोपहर 3.30 बजे तक
  • जाने का सबसे अच्छा समय: अक्टूबर से अप्रैल
  • स्थान: रोमा, इटली

7 चीचेन इट्ज़ा

माया खंडहर की अद्भुत और प्रसिद्ध संरचना, चिचेन इट्ज़ा एक विशाल मयान मंदिर है जो की विश्व धरोहर है। पिरामिड के आकार में बनाया हुआ, कुकुलकन के भगवान को समर्पित है। संरचना में प्रत्येक तरफ 91 सीढ़ियां हैं, जो मंदिर के अंतिम चरण के साथ मिलकर, 365 होती है।

“चीच’एन इट्ज़ा” का अर्थ होता है “इट्ज़ा के कुएं के मुख पर.”

5 किलोमीटर के दायरे में फ़ेला हुआ, जिसका निर्माण 600 ईशा पूर्व में हुआ था। जहाँ हर साल १४ लाख पर्यटक घूमने आते है। चिचेन मैक्सिको में युकान्तन राज्य में स्थित है।

  • ऊंचाई: 30 मीटर
  • समय: सुबह 8.30 बजे से शाम 4.30 बजे तक
  • जाने का सबसे अच्छा समय: दिसंबर से मार्च
  • स्थान: युकाटन, मेक्सिको

7 अजूबों के बारे में पूछे गएआपके कुछ सवाल(FAQ)

दुनिया के 7 अजूबे कौन से है?

पेट्रा, चिचेन इटजा, चीन की दीवार, कोलेजियम, ब्राजील का क्राइस ऑफ रिडीमर, माचू पिच्चू, और भारत का ताजमहल ये दुनियाके 7 अजूबे है।

चीन की महान दीवार में कितने श्रमिकों ने आपनी जान गवाई थी?

यह अनुमान लगाया गया है कि चीन की महान दीवार के निर्माण में लगभग 400,000 श्रमिक मारे गए थे और चीन की दीवार कीनिव में दफ़नाया गया था।

माचू पिचू पर पोहचने में कितना समय लगता है?

माचू पिचू पर चढ़ने और भयानक इंका ट्रेक को पूरा करने में लगभग 4 दिन लग जाते है।

ये 7 नए अजूबों का चुनाव कब किया गया था।

2007 में वोटिंग के ज़रिए इन महान और अद्भुत अजूबों का चयन किया गया था, जिसमें 10 करोड़ लोगों ने अपना वोट दिया था।

प्राचीन समय के सात अजूबे  के नाम क्या थे?

ग्रेट पिरामिड ऑफ़ गिज़ा
हैंगिंग गार्डन ऑफ़ बेबीलोन
स्टेचू ऑफ़ ज़ीउस अट ओलम्पिया
टेम्पल ऑफ़ आर्टेमिस
माउसोलस का मकबरा
कोलोसुस ऑफ़ रोडेज
लाइटहाउस ऑफ़ अलेक्सान्दिरा

समीक्षा

यह थे दुनिया के 7 अजूबे, मुजे उम्मीद है कि आपके सारे प्रश्नो का उत्तर आपको मील गया होगा। हमारे लिए गर्व की बात है की ताजमहल का भी इन सात अजूबों में समावेश होता है। ये 7 अजूबे अकल्पनीय, अविस्वनिय और अद्भुत है।

अगर आपने अभी तक अगर ताजमहल का दीदार नहीं किया है तो एक दिन समय निकाले और घूमने जाए। दुनिया के सात अजूबे के बाद हम भारत के सात अजूबे के बारे में आने वाली पोस्ट में बात करेंगे।

Share.

मेरा नाम जिगर प्रजापति है और मुझे लिखने में बहुत बहुत शौक है। मैं एक ब्लॉगर हूं जो आपकी समस्या सुलझाने में सहायता करता हूं।

Leave A Reply